Calendar

April 2022
M T W T F S S
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
252627282930  
May 28, 2024

इंसानियत ✍ उदिप्त तालुकदार

1 min read

आज कहीं दुबक कर बैठी है इंसानियत

क्षत-विक्षत है उसका ज़र्रा-ज़र्रा

इज़ाजत तो न थी उन दलालों को

पर यहाँ तो

इबादत हो रही थी हैवानियत की

ग़लत मुख़्तसर हो रहा है

हर आयात

हर दोहा

वक्त को भी इल्म न था

अपाहिज हो जायेगी इंसानियत

और तख़्त पर बैठेगी हैवानियत !

1 thought on “इंसानियत ✍ उदिप्त तालुकदार

  1. उद्दीप्त जी बहुत ही यथार्थ बात कही आपने। वाकई वर्तमान स्थिति को देखते हुए यही प्रतीत होता है कि मानो जैसे हैवानियत ने इंसानियत का नकाब ओढ लिया है। करूणा, दया, परोपकारिता जैसी मानवीय गुण धीरे- धीरे समाप्त हो चली है। जैसे लगता है संवेदनाएं सुसुप्ता अवस्था में चली गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *